Bagawat shayari / Poetry Urdu & Hindi | Bagawat Status / SMS/ Quotes|

Bagawat shayari / Poetry in Urdu & Hindi gets from here. We have lots of unique collections of Bagawat shayari In Urdu for friends in Hindi Quotes in Hindi text. Bagawat Status available. Read and copy Ghazal on Bagawat quotes in Urdu message Urdu, SMS /Status in Hindi and English with images and share on social media and What’s App friends.

Bagawat shayari in Urdu text for girlfriend/boyfriend in Hindi SMS and poetry quotes and status uploaded on Facebook and Instagram. Find Here the latest collection of Urdu and Hindi poets. Our team daily upload all type of Shayari in this site. You can find your favorite poetry on this blog and share it with your loved ones. We hope you liked our collection. If you liked Bagawat shayari in English 2 line Collection, please let us know by commenting below. Android Bagawat poetry for laptop and mobile. Urdu poetry website and all unique sher available here.

 

Bagawat shayari in Urdu

Bagawat shayari in Urdu

Kuch To Tērē Mausam Hi Mujhē Raas Kam Aayē
Aur Kuch Mēri Mitti Mai Bagawat Bhi Bohat Thi
کچھ تو ترے موسم ہی مجھے راس کم آئے
اور کچھ مری مٹی میں بغاوت بھی بہت تھی
कुछ तो तिरे मौसम ही मुझे रास कम आए
और कुछ मिरी मिट्टी में बग़ावत भी बहुत थी

 

 

 

 

 

मिलना है तो आ जीत ले मैदान में मुझको
हम अपने काबिले से बगावत नहीं करते

 

 

 

Mohabbat Andhēri Raat Ban Kē Aa Jayēgi ēk Din Dost,
Yun Apnē Sab Rishton Sē Tēri Bagawat Achi Nahi
محبت اندھیری رات بن کے آجائیگی اک دن دوست
یوں اپنے سب رشتوں سے تیری بغاوت اچھی نہیں

 

Bagawat Shayari rekhta

Bagawat Shayari rekhta

 

 

maiñ bolta huun to ilzām hai baġhāvat kā
main chup rahūñ to baḌī bēbasī sī hotī hai

 

 

 

 

 

आज़मा लो आज%%यूँ रोज़ सताया ना करो%#
बहुत रोओगे%# जान लो%# आज़माने के बाद

 

 

 

बगावत है बहुत वक़्त बीत गया %#
कम से कम%# कुछ झूठे ही बहानें कर के चले ही आओ

 

 

पसंद नहीं है मुझे उसका%# टिक टॉक बनाना%
मना करनें पर उसका चुप चाप% रूठकर बैठ जाना% भी मुझे पसंद नहीं है

 

 

 

 

नज़र चुरा के क्या जीना%#
जीने के लिए आत्मसम्मान%## जिंदा होना चाहिए

 

 

baghawat poetry in urdu

baghawat poetry in urdu

 

 

चल सवेरा हो गया है%##
निकल अपनी जिंदगी की दौड़ में%#
तुझे पिछले कल से खुद को बेहतर बनाना है

 

 

 

 

पास होके भी तुम्हारे%## अब वो बात नहीं%#
जब से##%## बड़ी चुप-चाप से बस रहनें लगी हो तुम

 

 

 

ख़ामोश थे लब मेरे जब वो झूठ पे झूठ बोले जा रहे थे%##
एक दो हो तो कोई बात को काटे%#
सबकुछ जब झूठ हो तो%## मन टूट जाता है%##

 

 

 

 

 

मरनें को तो कोई भी तैयार नहीं है%#
एक हम ही हैं%## जो तेरे इश्क़ में घायल लहूलुहान बैठे हैं

 

 

 

वो सामान थोड़ी है,इज़्ज़त है ।
है ना%%%##? तो इज़्ज़त कर नां%%%

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*